[

]

पीलीभीत. Barkhera  Assembly Seat Result live : बरखेड़ा विधानसभा सीट (Barkhera Vidhan Sabha Chunav Result Live)  पर बीजेपी ने जीत हासिल कर ली है. यह सीट शुरू से ही भाजपा का मजबूत गढ रही है. पार्टी यहां से आठ बार जीत चुकी है. ऐसे में इस जीत को बरकरार रखते हुए इस बार भी भाजपा ने यहां से सभी पार्टियों को पछाड़कर सीट पर कब्‍जा कर लिया है. यहां से बीजेपी ने स्‍वामी प्रवक्‍तानंद (BJP Candidate Pravaktananda) ने 27 चरणों की मतगणना के बाद 151498 वोट हासिल किए हैं. जबकि दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी के हेमराज वर्मा (SP Candidate Hemraj Verma) रहे हैं, जिन्‍हें 69660 वोट मिले हैं. बीजेपी ने यह सीट वोटों के बड़े अंतर से अपने नाम की है.

इस सीट पर कांग्रेस ने हरप्रीत सिंह छब्‍बा (Congress Candidate Harpreet Singh Chhabba) और बसपा ने मोहन स्‍वरूप (BSP Candidate Mohan Swaroop) को मैदान में उतारा है.

पिछले चुनाव में भाजपा के किशन लाल राजपूत ने सपा के पीतम राम को हराया था. इस बार भाजपा और सपा, दोनों ने ही नए उम्‍मीदवार मैदान में उतारे हैं. इस बार बरखेड़ा विधानसभा क्षेत्र में भारी मतदान हुआ है. 23 फरवरी को हुए मतदान में 73.17 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. विधानसभा चुनाव 2017 में 69.64 प्रतिशत मतदान हुआ था.

2017 में भाजपा को मिली जीत

2017 के चुनाव में भाजपा के किशन लाल राजपूत ने समाजवादी पार्टी के पीतम राम को 13389 वोटों से हराया था. राजपूत को 55220 वोट मिले थे. जनसंघ के जमाने से पीलीभीत विधानसभा क्षेत्र में भाजपा मजबूत रही है. सबसे अधिक आठ बार जनसंघ और भाजपा प्रत्‍याशियों को यहां जीत मिली है. कांग्रेस सिर्फ एक बार जीती है, समाजवादी पार्टी को दो बार मौका मिला है. बसपा का खाता अभी तक नहीं खुला है.

किशन लाल बने हैं 7 बार विधायक

परिसीमन के बाद 1967 में अस्‍तित्‍व में आई बरखेड़ा विधानसभा सीट पर पहले चुनाव से ही भगवा टोला मजबूत रहा है. जनसंघ नेता रहे किशन लाल यहां से रिकॉर्ड सात बार विधायक रह चुके हैं. 1967 से लेकर 1977 तक तो चार चुनावों में उन्‍होंने लगातार जीत दर्ज की थी. भारतीय जनता पार्टी बनने के बाद भी इस सीट पर उन्‍होंने भगवा झंडा बुलंद रखा. 1985, 91 और 93 में भी जीत दर्ज की. इसके बाद उन्‍हें समाजवादी पार्टी ने मजबूत चुनौती दी, जिससे वह पार नहीं पा सके. 1996 में समाजवादी पीतम राम से 15 हजार से अधिक वोटों से हार गए. 2002 का चुनाव कल्‍याण सिंह की राष्‍ट्रीय क्रांति पार्टी से लड़े, इस बार भी उन्‍हें दूसरे नंबर पर ही संतोष करना पड़ा.

हाजी रियाज की मौत से सपा को नुकसान

समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता रहे हाजी रियाज अहमद बरखेड़ा के ही रहने वाले थे. इसके चलते उनकी भी यहां पर मजबूत पकड़ थी. इस सीट पर सपा की सफलता का सूत्रधार उन्‍हीं को माना जाता है. कोरोना से हाजी रियाज अहमद की मौत हो चुकी है. अब रियाज नहीं रहे तो सपा के लिए भी यहां चुनौतियां होंगी.

जातीय समीकरण

बरखेड़ा विधानसभा सीट पर लोध बिरादरी का वर्चस्‍व है. यहां लगभग 1.10 लाख मतदाता इस बिरादरी के हैं. वहीं, मुस्‍लिम 40 हजार, दलित 35 हजार और सिख वोटर करीब 15 हजार हैं. इस विधानसभा सीट पर अब तक हुए 14 चुनावों में सबसे अधिक आठ बार जनसंघ और भाजपा प्रत्‍याशियों को जीत मिली है. कांग्रेस सिर्फ एक बार जीती है, समाजवादी पार्टी को दो बार जीत मिली है.

आपके शहर से (पीलीभीत)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Assembly elections, Uttar Pradesh Elections

[

]

Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: