• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Sitamarhi
  • For The Education Of Children In 146 Schools, The Laboratory Was Built Four Years Ago With ~ 5.36 Crores, The Lock Was Not Even Opened

सीतामढ़ी2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

एमपी हाई स्कूल में उपकरण पर पड़ी धूल।

  • स्कूल की प्रयोगशाला के लिए एक भी लैब टेक्नीशियन नहीं, उपकरण नहीं खरीदने के कारण 25 लाख रुपए किए वापस

जिले के माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों में उपलब्ध प्रयोगशाला का न तो बच्चों द्वारा उपयोग कराया जा रहा है और न ही इसका उचित रख-रखाव हो रहा है। प्रयोगशाला में उपलब्ध कराए गए उपकरणों पर धूल की मोटी परत जमी है। शायद यही कारण है कि करोड़ों के उपकरण खराब हो रहे है। शिक्षा विभाग की ओर से साल 2017-18 में जिले के 146 माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों के प्रयोगशाला में उपकरण क्रय करने के लिए 5.36 करोड़ की राशि उपलब्ध कराई गई थी। इसमें उपकरण क्रय नहीं होने पर 25 लाख की राशि वापस कर दी गई। जबकि शेष राशि के आलोक में उपकरण क्रय तो किया गया लेकिन लैब टेक्निशयन नहीं होने के कारण इसका उपयोग तक नहीं किया जा रहा है। स्थिति यह है कि इन स्कूलों में से अधिकांश स्कूलों के लैब का ताला भी नहीं खुलता है।

प्रयोगशाला में उपकरण क्रय करने एवं इसे सुसज्जित करने के लिए साल 2017-18 में जिले के 146 स्कूलों को कुल 5.36 करोड़ की राशि आवंटित की गई थी। इसमें प्लस टू 49 स्कूलों को 5-5 लाख की हिसाब से राशि आवंटित किया गया था। बार-बार निर्देश के बाद भी उपकरण क्रय नहीं किए जाने को लेकर 10 लाख की राशि वापस करना पड़ा। इसी प्रकार जिले के 97 माध्यमिक स्कूलों में प्रयोगशाला के लिए 3-3 लाख के हिसाब से कुमल 2.91 करोड़ की राशि दी गई थी। लेकिन उपकरण क्रय नहीं करने पर इसमें से 15 लाख की राशि लौटानी पड़ी। जिसका उपयोगिता प्रमाण-पत्र साल 2022 में उपलब्ध कराया गया है।

कमला बालिका में टेक्नीशियन नहीं

डुमरा स्थित कमला बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में अलग अलग भाैतिकी, रसायन व जीव विज्ञान प्रयोगशाला है। लेकिन यहां कोई लैब टेक्नीशियन नहीं है। इस कारण शिक्षकों द्वारा ही लैब का संचालन किया जाता है। रसायन विज्ञान के लिए अतिथि शिक्षक से कार्य लिया जा रहा है।

रीगा में एचएम बोले-करते हैं उपयोग

रीगा|उच्च माध्यमिक स्कूलों में टेक्निशयन नहीं है। जिसके कारण स्कूल के शिक्षक ही लैब का संचालन करते है। महंत अयोध्या रामानुज के। प्रधानाध्यापक सुबोध कुमार गोस्वामी ने बताया कि लैब का उपयोग स्कूल के शिक्षकों के निर्देशन में बच्चे करते हैं। यहां टेक्नीशियन नहीं है।

^जिले में संचालित लैब का बारिकी से निरीक्षण किया जाएगा। लैब को सुसज्जित कराकर बच्चों को इससे लाभान्वित कराया जाएगा। जहां लैब है वहां लैब के उपयोग के लिए इसे स्कूल के रूटीन में शामिल कराया जाएगा।
– सुभाष कुमार, प्रभारी डीईओ

अंतरवर्ती महाविद्यालय के लैब का नहीं खुलता ताला
मुख्यालय डुमरा स्थित अंतरवर्ती महाविद्यालय (एमपी हाई स्कूल) में अलग अलग तीन कमरों में लैब बनाया गया है। इन लैब में उपकरण भी उपलब्ध है लेकिन इन लैब का ताला भी नहीं खुलता है। लैब का बीकर, माइक्रोस्कोप व फ्लास्क आदि कमरे के उपरी छज्जी पर रखा गया है। जिस पर मोटी धूल की परत जमी है। कहीं उपकरणों पर मकड़ी का जाल लगा है। स्कूल के प्रधानाध्यापक बैद्यनाथ बैठा बताते है कि स्कूल में पहले विज्ञान के शिक्षक नहीं थे। अब विज्ञान के शिक्षक उपलब्ध हो गए है। शिक्षक के माध्यम से समय के अनुसार लैब का संचालन होता है। लेकिन स्कूल में साल 1993 से कोई लैब टेक्निशयन नहीं है। इसके कारण समस्या होती है। हर साल मतदान कार्य को लेकर स्कूल को प्रशासन अधिग्रहित कर लेती है। इसमें अधिकांश फर्नीचर व सामान नष्ट हो जाते है।

खबरें और भी हैं…



Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: