बक्सर/पटना3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जेल में स्थापित वामनेश्वर शिव की प्रतिमा।

भगवान वामन मंदिर में आम श्रद्धालुओं के लिए पूजा अर्चना आदि का प्रबंध किए जाने संबंधी जनहित याचिका पर सुनवाई जारी है। पटना हाईकोर्ट ने बक्सर सेंट्रल जेल परिसर में अवस्थित 140 साल पुराना वामन भगवान मंदिर की सुरक्षा के साथ ही सेंट्रल जेल को भी सुरक्षित रखने तथा आम जनता को पूजा पाठ की सुविधा उपलब्ध कराने के मसले में सुनवाई की। इस मामले में हाईकोर्ट ने बक्सर के डीएम, एसपी और जेल अधीक्षक को तलब किया है।

चीफ जस्टिस संजय करोल तथा जस्टिस पार्थसारथी की खंडपीठ ने बिमला शंकर मिश्रा की लोकहित याचिका पर सुनवाई के बाद मंगलवार को यह आदेश दिया। कोर्ट ने इन अधिकारियों से जानना चाहा है कि आम लोगों को मंदिर में प्रवेश की सुविधा उपलब्ध कराने के साथ ही जेल की सुरक्षा के लिए क्या कदम उठाने की जरूरत है? कोर्ट को अपर महाधिवक्ता अंजनी कुमार ने बताया कि तीनों अधिकारी ही वास्तविक स्थिति से अवगत करा सकते हैं। मामले पर अगली सुनवाई 29 नवम्बर को होगी।

सेंट्रल जेल और ओपन जेल की सुरक्षा का हवाला : सेंट्रल जेल की चहारदीवारी के भीतर कैद भगवान वामन को जेल परिसर से बाहर निकालने को लेकर पिछले कई वर्षों से स्थानीय लोग संघर्षरत है। भगवान वामन चेतना समिति के तत्वावधान में इस क्षेत्र को सेंट्रल जेल परिसर से विमुक्त कराने का मामला बीते एक वर्षों से सुर्खियों में है। जेल प्रशासन के आधिकारिक सूत्र बताते हैं कि मंदिर में पूजा-अर्चना पर कोई रोक नहीं है। यहां सार्वजनिक जगह है इसे प्राइवेट किया जाय या भीड़ अधिक जुटने लगे तो सेंट्रल जेल और ओपन जेल की सुरक्षा को लेकर परेशानी खड़ी हो सकती है।

सिद्धाश्रम है वामन भगवान की अवतरण स्थली : वामन भगवान का अवतरण स्थल सिद्धाश्रम बक्सर ही है। भगवान वामन पहले मनुज अवतार हैं। जब असुरों के राजा बलि के आतंक से जब देवतागण भी घबरा गए। तब स्वयं भगवान विष्णु ने वामन रूप में पहला मनुष्य अवतार लेकर ज्ञान योग से असुरराज का उद्धार करने के लिए समूचे ब्राह्मण पर कब्जा किया। उन्होंने बलि से यज्ञ व तपस्या के लिए तीन पग भूमि मांगी। एक पग में पृथ्वी, दूसरे में आकाश तथा तीसरे में पाताल लोक नाप लिया। इस तरह पूरे ब्रह्मांड पर कब्जा कर बलि को अपने वश में कर लिया। उनका मंदिर जेल परिसर में स्थित है।

सिर पर पांव रखते पाताल चला गया बलि
यज्ञ स्थल पर दैत्यों के गुरु शुक्राचार्य भी मौजूद थे। वे वामन देव के रूप को जान चुके थे कि ये भगवान विष्णु ब्राह्मण के वेश में हैं। दैत्य गुरु शुक्राचार्य राजा बलि को ऐसा वचन देने से मना कर रहे थे। लेकिन गुरु की सलाह को नजरअंदाज करते हुए राजा बलि ने वामन देव को तीन पग भूमि देने का वचन दे दिया। तब वामन देव ने अपने पहले पग से पृथ्वी और दूसरे पग से आकाश को नाप लिया। अब एक पग नापने के लिए बच गया तब राजा बलि ने कहा कि वामन देव आप तीसरा पग मेरे सिर पर रख सकते हैं। जब भगवान विष्णु जो कि वामन अवतार में उन्होंने जैसे ही तीसरा पग बलि के सिर पर रखा वह पाताल चला गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: