पटना42 मिनट पहले

नाम मनोज मंडल, पिता का नाम सीताराम मंडल, घर बभनगांव, जिला लखीसराय। रंग सांवला है। हाइट करीब 6 फीट है। कद-काठी और पर्सनैलिटी बिल्कुल पुलिस जवानों जैसी। मूंछ-बाल रखने का और जूता पहनने का तरीका बिल्कुल उन्हीं की तरह। जब ये चलता है तो लगता है कि सामने से कोई पुलिस वाला ही आ रहा है। लेकिन, ऐसा नहीं है। इसके चाल-ढाल और काम, सब लोगों को धोखा देने के लिए हैं। इसका मुख्य पेशा ही चलती हुई ट्रेन में लोगों के सामान को चोरी करना है। पढ़िए 1 करोड़ की सोना चोरी के मामले में पकड़े गए इस कुख्यात और उसके गैंग की इनसाइड स्टोरी…

पूछताछ में हुआ बड़ा खुलासा
करीब 20 सालों से मनोज मंडल ट्रेनों में पैसेंजर्स के सामानों की चोरी करता आ रहा है। अब तक वो 500 से अधिक बार ट्रेनों में चोरी कर चुका है। जबकि, 1000 हजार से अधिक बार चोरी की कोशिश कर चुका है। बड़ी बात ये है कि ट्रेन में पैसेंजर्स के सामान तो चोरी हो जाते थे, पर पुलिस के हाथ यह शातिर जल्दी लग नहीं पाता था। सूत्रों के अनुसार इन बातों का खुलासा तब हुआ, जब पटना रेल पुलिस के मुख्यालय डीएसपी सुशांत कुमार चंचल की टीम ने इसे और इसके गैंग के अपराधियों को पकड़ा और एक-एक कर सभी से पूछताछ की।

रेल पुलिस के हत्थे चढ़े शातिर चोर।

1 दिन में 3 ट्रेन का टारगेट
मनोज मंडल ने अपने साथी अपराधी और खुशरूपुर के रहने वाले संतोष कुमार मंडल के साथ मिलकर गैंग के लिए एक टारगेट सेट कर रखा था। हर एक दिन में लंबी दूरी की कम से कम 3 ट्रेनों को ये खंगालते थे। इसका सिलसिला शाम के 6 बजे से शुरू होता था और अगले दिन सुबह तक चलता था। बगैर अपना टारगेट पूरा किए ये शातिर वापस नहीं लौटते थे। टारगेट को पूरा करने के लिए जितने दूर का सफर करना पड़े, ये करते जरूर थे।

चोरी के काम के बोलते ‘ड्यूटी’
सूत्र बताते हैं कि ट्रेनों में चोरी करते हुए मनोज के पास लंबा अनुभव हो चुका है। चलती ट्रेन में ये अपनी नजरों से ही AC कोच के अंदर बैठे पैसेंजर्स को पूरी तरह से स्कैन कर लेता है। इसी आधार पर अपना टारगेट सेट करता है और उनके कीमती सामानों से भरे बैग या ट्रौली को गायब कर देता है। अपने टारगेट को पूरा करने के लिए किसी भी रूट पर जनरल टिकट लेकर लंबी दूरी के किसी भी ट्रेन के AC कोच में बेधड़क चढ़ जाता है।

TTE से चलती ट्रेन में रुपए देकर बर्थ हासिल कर लेता है। व्यवहार आम पैसेंजर्स की तरह ही करता है। इस कारण किसी को भी इस पर शक नहीं होता है कि ये शातिर और कुख्यात चोर है। खास बात ये है कि चोरी के काम को ये अपराधी ‘ड्यूटी’ बोलते हैं।

CCTV में दिखे शातिर।

CCTV में दिखे शातिर।

बात करने के बाद तोड़ देते हैं सिम कार्ड
सूत्रों के अनुसार रेल पुलिस की जांच और पूछताछ के दरम्यान एक चौंकाने वाली बात सामने आई है। जब ये अपराधी चोरी करने के लिए निकलते हैं तो उस दरम्यान ये दो तरह से अपने साथियों से बात करते हैं। पहला तरीका है – कीपैड वाले छोटे व पुराने मोबाइल का इस्तेमाल ये सबसे अधिक करते हैं। जब टारगेट पूरा होता है तो उसके बाद सिम कार्ड को तोड़ कर फेंक देते हैं। फिर नया सिम कार्ड खरीदते हैं। इनका दूसरा तरीका वॉट्सऐप कॉल का है। रेल पुलिस को वॉट्सऐप कॉल पर बात करने के सबूत मिले हैं।

चोरों के पास से बरामद मोबाइल और अन्य सामान।

चोरों के पास से बरामद मोबाइल और अन्य सामान।

पहली बार झाझा में दर्ज हुआ था केस
भले ही मनोज मंडल 500 से अधिक बार ट्रेनों में चोरी कर चुका है। मगर, अपने शातिर अंदाज की वजह से ये बहुत कम बार ही पकड़ा गया है। आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि अलग-अलग रेल थानों से जब इसके और गैंग के दूसरे अपराधियों की हिस्ट्री खंगाली गई तो करीब 25 से अधिक केस दर्ज होने के ही डिटेल मिले। इसमें भी 4 केस मनोज मंडल पर ही दर्ज हैं।

पहली बार साल 2003 में इसके खिलाफ 24 जुलाई को झाझा रेल थाना की पुलिस ने FIR नंबर 20/03 दर्ज की थी। इसके बाद का डिटेल देख कर आपके होश उड़ जाएंगे। करीब 12 साल बाद तीन केस लगातार अकेले किउल स्टेशन पर रेल थाना में दर्ज किया गया। इसमें 7 जनवरी को FIR नंबर 7/15, 4 जुलाई को 69/15 और 17 जुलाई को 73/15 शामिल है।

गैंग के पास से मिले चोरी किए गए ट्रॉली बैग।

गैंग के पास से मिले चोरी किए गए ट्रॉली बैग।

पहली बार पकड़ा गया उमेश और श्रवण
चोरों के गैंग का सरगना मनोज मंडल ही अकेले शातिर नहीं है। इसके दूसरे साथी भी बेहद शातिर हैं। सुपौल का रहने वाला उमेश कामत और पटना के धनरूआ का श्रवण कुमार उर्फ संतोष पिछले कई सालों से मनोज के साथ हैं। चोरी की कई वारदातों में शामिल रहे। मगर, पहली बार पटना रेल पुलिस के गिरफ्त में आए हैं। हालांकि,

उमेश को साल 2005 में दानापुर से RPF, 2007 में हत्या के मामले में खुशरूपुर थाना ने और चोरी के मामले में 2017 में प्रयाग राज से जेल जा चुका है। इसी तरह श्रवण को 2020 में प्रयागराज की पुलिस ने चोरी के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। सूत्र के अनुसार इन दोनों को पकड़ने के लिए रेल पुलिस की टीम को 2-2 दिन तक इंतजार करना पड़ा। क्योंकि, इन्होंने अपना मोबाइल बंद कर रखा था।

PMLA एक्ट के तहत कार्रवाई की तैयारी
इस मामले में मुख्यालय रेल डीएसपी सुशांत कुमार चंचल से बात की गई। रेल पुलिस मनोज कुमार मंडल पूरे गैंग को खत्म करने की तैयारी में है। गैंग में शामिल 5 अपराधी अब भी फरार हैं, जिनकी तलाश में छापेमारी चल रही है। इस गैंग का पटना के बाकरगंज के कई सोना कारोबारियों से कनेक्शन है, जिन्हें चोरी का सोना बेचते आए हैं। इनके कांटैक्ट्स को खंगाला जा रहा है। मनोज मंडल और इसके हर एक साथी अपराधी के संपत्तियों की जांच भी होगी। पूरा डिटेल मिलने के बाद इनके खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत आगे की कार्रवाई होगी।

चमचमाती बुलेट ने 1 करोड़ के सोना चोरों को पकड़वाया:पटना में बुलेट से स्टेशन पहुंचे थे चोरी करने, CCTV से मैकेनिक ने पहचाना

पटना जंक्शन पर खड़ी भगत की कोठी, कामाख्या एक्सप्रेस से करीब एक करोड़ के सोना चोर एक चमचमाती बुलेट के कारण पकड़े गए। चोरी करने के लिए वो उसी से पटना जंक्शन आए थे। वारदात के बाद जब रेल पुलिस ने स्टेशन पर लगे CCTV के फुटेज को खंगाला तो उसमें बुलेट दिखी थी। उसी के आधार पर एक सर्विस सेंटर के मैकेनिक ने चोरों की पहचान कर ली। रेल पुलिस ने स्टेशन पर लगे CCTV के फुटेज के आधार पर सरगना मनोज मंडल और संतोष पांडेय समेत कुल 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें 6 पेशेवर अपराधी हैं तो 3 पटना के बाकरगंज इलाके के सोना के कारोबारी। जबकि, सोना गलाने वाला शख्स अब भी फरार है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

खबरें और भी हैं…



Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: