पटना5 मिनट पहलेलेखक: बृजम पांडेय

सुर्खियों में रहने वाले उपेंद्र कुशवाहा भले जदयू से एमएलसी हो या फिर जदयू के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हो लेकिन, उनकी पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी आज भी सक्रिय है।

उपेंद्र कुशवाहा भले जदयू के कार्यालय में जाकर अपने चेंबर में बैठकर जदयू कार्यकर्ताओं की बात सुनते हो लेकिन कागज पर उनकी पार्टी अभी भी सक्रिय हैं और उनका चुनाव चिन्ह सीलिंग फैन अभी आवंटित है।

दरअसल, उपेंद्र कुशवाहा ने 2021 के मार्च महीने में अपनी पार्टी आरएलएसपी के जदयू के साथ विलय की घोषणा कर दी थी। पार्टी के सभी नेता जदयू में आकर मिल गए थे, लेकिन आज भी उनकी पार्टी पूरी तरह से सक्रिय है और चुनाव चिन्ह आज भी आवंटित है।

2021 के मार्च महीने में आरएलएसपी के विलय की हुई थी घोषणा

2021 में बनाया था अध्यक्ष

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2021 के मार्च में आनन-फानन में उपेंद्र कुशवाहा को जदयू के संसदीय बोर्ड का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया। 1 महीने के बाद उन्हें विधान परिषद का सदस्य भी बना दिया गया।

माना गया कि पूरी तरह से उपेंद्र कुशवाहा जदयू के पदाधिकारी भी हो गए और जदयू कोटे से बिहार विधान परिषद के सदस्य भी हो गए, लेकिन इस बीच उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी पार्टी आरएलएसपी को मरने ही नहीं दिया। आरएलएसपी को वे समय-समय पर ऑक्सीजन देते रहे।

क्षेत्रीय दलों की सूची में रालोसपा का नाम

आपको बता दें कि चुनाव आयोग की तरफ से नोटिफिकेशन जारी किया जाता है, जिसमें राष्ट्रीय दल और राज्यस्तरीय क्षेत्रीय दल की सूची होती है। उसमें 2021 के सितंबर महीने में क्षेत्रीय दलों की सूची में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का नाम है और चुनाव आयोग की तरफ से दिए गए चुनाव चिन्ह सीलिंग फैन भी है।

हालांकि इस दौरान उपेंद्र कुशवाहा जदयू के लिए लगातार काम करते रहे, लेकिन 2022 के अगस्त महीने में आरएलएसपी का इनकम टैक्स भी भरा गया। जाहिर सी बात है भले पूरी पार्टी के लोगों को लेकर उपेंद्र कुशवाहा जदयू में चले आए लेकिन उनके आरएलएसपी वाली दुकान शटर बंद होने के बावजूद चलती रही।

आरएलएसपी के पूर्व नेता ने बताई पूरी बात

इस पूरे मामले में नाम नहीं छापने के अनुरोध पर आरएलएसपी के पूर्व नेता ने बताया कि जब विलय की घोषणा हुई थी तो चुनाव आयोग के तरफ से उपेंद्र कुशवाहा के पास चिट्ठी आई थी, जिसका जवाब उपेंद्र कुशवाहा ने नहीं दिया था।

इसके साथ ही उपेंद्र कुशवाहा ने इनकम टैक्स को आरएलएसपी की तरफ से लड़े गए लोकसभा 2014, बिहार विधानसभा 2015, फिर लोकसभा 2019 और बिहार विधानसभा 2020 में हुए चुनाव का रिटर्न भी फाइल किया। यानी इस दौरान पार्टी ने क्या चंदा लिया और क्या खर्चे किए इसका भी ब्योरा दिया।

जदयू के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं उपेन्द्र कुशवाहा।

जदयू के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं उपेन्द्र कुशवाहा।

काफी मुखर हो गए हैं उपेन्द्र कुशवाहा

उपेन्द्र कुशवाहा इन दिनों जदयू को लेकर काफी मुखर हो गए हैं। मुख्यमंत्री से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह पर अलग-अलग आरोप लगा रहे हैं। जदयू को काफी कमजोर बता रहे हैं। साथ ही आरजेडी के साथ एक अलग डील होने की बात कह रहे हैं। उपेंद्र कुशवाहा के इस तेवर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ-साफ कह दिया कि उनको जहां जाना है जाएं। उनको रोका नहीं जाएगा।

इधर, आरएलएसपी से जदयू में आए नेता भी परेशान हो गए। अब तक उपेंद्र कुशवाहा के लिए सबसे विश्वासी नेता रहे जदयू के प्रदेश सचिव धीरज सिंह कुशवाहा ने उपेंद्र कुशवाहा से अपना पीछा छुड़ाते हुए उनके द्वारा चलाए जा रहे महात्मा फूले समता परिषद से इस्तीफा दे दिया। धीरज कुशवाहा ने दो संगठन का हवाला देकर यह इस्तीफा दिया है, लेकिन, साफ तौर पर धीरज कुशवाहा ने अपने आपको उपेन्द्र कुशवाहा से अलग कर लिया।

उपेंद्र कुशवाहा से जुड़ी अन्य खबरेंः

महागठबंधन में जाने से पहले RJD से डील हुई थी:उपेंद्र कुशवाहा बोले- नीतीश को कमजोर किया जा रहा, बुलाएं तो सबकुछ बता दूंगा

JDU में खींचतान बढ़ गई है। पार्टी में अब दो खेमा बन गया है। एक तरफ राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह तो दूसरी तरफ संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा हैं। उपेंद्र कुशवाहा ने मंगलवार को कहा कि महागठबंधन में जाने से पहले जदयू के कुछ नेताओं ने राजद के साथ डील की थी। नीतीश कुमार को लगातार कमजोर किया जा रहा है। मुझे नीतीश जी बुलाएं। मैं सब कुछ साफ कर दूंगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष बुलाएं, उनके सामने सब कुछ रख दूंगा। वो बताएं कि कौन सी डील हुई है? क्यों राजद के लोग कह रहे हैं कि उनके नेता को शपथ दिलाई जाए? मुख्यमंत्री अभी चेत जाएं नहीं तो मुश्किल होगी। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।

‘JDU में जो जितना बड़ा नेता…वो उतना BJP से नजदीक’:CM नीतीश को कुशवाहा का जवाब, कहा- पार्टी ही 2-3 बार भाजपा के साथ गई

जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने इशारों में नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। दिल्ली से लौटते ही BJP से नजदीकियों की अटकलों पर जवाब देते हुए कहा कि हमारी पार्टी में जो जितना बड़ा नेता है, वो उतना ज्यादा बीजेपी के संपर्क में है। उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश का नाम तो नहीं लिया, लेकिन जेडीयू में उनसे बड़े पद पर सिर्फ नीतीश कुमार और ललन सिंह ही हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।​​​​​​​

CM नीतीश ने दी उपेंद्र को नसीहत:कहा- जितना जल्दी जाना हो, चले जाएं; जब मौका मिलता है, वह चले जाते हैं

जदयू के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने अपना स्टैंड क्लियर कर दिया है। उन्होंने दो टूक कहा- उनको जब जाना हो, जितना जल्दी जाना हो, वो चले जाएं। उनको जब मौका मिलता है, वह चले जाते हैं। CM गुरुवार सुबह पटना के एएन कॉलेज के एक कार्यक्रम में पहुंचे थे। इस दौरान मीडिया से बातचीत की। जदयू के बड़े नेता के भाजपा के संपर्क साधने के सवाल पर उन्होंने कहा कि जो खुद संपर्क में जाना चाहता है, वही यह सब खुद बोलते रहता है। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।

खबरें और भी हैं…



Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: