• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Corruption Spread At Ludhiana Railway Station, Vigilance Caught More Than 100 Overweight Pieces At Patna Station, Officials Kept Silent

विवेक शर्मा, लुधियानाएक घंटा पहले

फिरोजपुर डिवीजन के लुधियाना स्टेशन पर चल रहे ओवरवेट नग स्कैम का भंड़ाफोड़ पटना स्टेशन पर हो गया। अमृतसर स्टेशन से चली ट्रेन 00468 अमृतसर-हावड़ा कोविड एक्सप्रेस को पटना रेलवे स्टेशन पर रेलवे विजिलेंस द्वारा चेक किया गया है। बताया जा रहा है कि विजिलेंस अधिकारियों को पटना से इनपुट मिला था कि लुधियाना रेलवे स्टेशन से करीब 150 से 200 नग (पेटियां) ट्रेन में लोड हुई है।

पटना स्टेशन पर उतरवाया माल।

इस माल में करीब 100 से 150 नग ऐसे है जो ओवरवेट है। सूचना मिलने पर जैसे ही ट्रेन पटना स्टेशन पर पहुंची तो विजिलेंस की टीम पहले से तैयार थी। टीम ने ट्रेन की चैकिंग की और माल को स्टेशन के प्लेटफार्म पर ही अनलोड करवाया गया। सूत्रों मुताबिक अब विजिलेंस की जिस टीम ने ये बड़ी मात्रा में माल पकड़ा है उसे माल छोड़ने के लिए व्यापारी 2 लाख रुपए तक की रिश्वत का ऑफर दे रहे है।

पटना रेलवे स्टेशन।

पटना रेलवे स्टेशन।

विजिलेंस ने जब्त किए ओवरवेट नग
विजिलेंस के अधिकारियों ने ओवरवेट नगों को जब्त कर लिया है। वहीं कई नग ऐसे भी अधिकारियों को मिले है जिनके बिल नहीं है। इस मामले में रेलवे के सभी अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है। पटना स्टेशन पर हुई विजिलेंस की दबिश लुधियाना स्टेशन के माल गोदाम में लंबे अर्सें से चल रहे ओवरवेट घोटाले को उजागर करती है।

जिम्मेदार अफसर पर कार्रवाई होगी : DCM
इस मामले में फिरोजपुर डिवीजन के सीनियर डी.सी.एम मालभाड़ा शुभम कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि अभी विजिलेंस की चैकिंग की खबर उन्हें मिली नहीं है। यदि लुधियाना स्टेशन के माल गोदाम से कोई ओवरवेट माल गया है तो जो भी अधिकारी होगा उस पर जरूर बनती कार्रवाई की जाएगी।

रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पड़े ओवरवेट नग।

रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पड़े ओवरवेट नग।

धड़ल्ले से चल रहा अवैध उगाही का खेल
रेलवे स्टेशन लुधियाना भ्रष्टाचार का गढ़ बन चुका है। रेलवे स्टेशन के पार्सल डिपार्टमेंट में अवैध उगाही का खेल धड़ल्ले से चल रहा है। समानांतर पार्सल व्‍यवस्‍था चलाकर रेलवे को करोड़ों का चूना लगाया जा रहा है। रेलवे अधिकारियों और रेलवे पुलिस बल के जवानों के साथ साठगांठ कर ओवरवेट माल एक शहर से दूसरे शहर तक भेजा जा रहा है।

150 से 200 रुपये प्रति नग हो रही उगाही
अधिकारी सब कुछ जानते हुए अंजान बने हुए हैं। दलालों के साथ-साथ दफ्तर में तैनात कर्मचारी खूब चांदी कूट रहे है। सूत्रों के मुताबिक इस गोरखधंधे में प्रति नग 150 से 200 रुपए की उगाही की जा रही है। लुधियाना से रोजाना लाखों रुपए की कीमत के पार्सल दूसरी जगहों पर भेजे जाने के लिए बुक किए जाते हैं। इसके अलावा वैगन बुकिंग भी की जाती है। पार्सल दलाली के रेकेट में रेलवे और आरपीएफ के जवान तक मददगार हैं।

लुधियाना रेलवे स्टेशन।

लुधियाना रेलवे स्टेशन।

रेलवे सूत्रों के मुताबिक, जिस किसी भी स्‍टेशन से माल ट्रेन में लादा जाता है वहां के स्‍टेशन मास्‍टर या स्‍टेशन सुपरिंडेंटेड का हिस्‍सा होता है। इसके बाद उस ट्रेन के RPF स्‍टाफ से लेकर माल उतरने वाले स्‍टेशन के SS,CPS,CMI और RPF जवानों का हिस्‍सा तय होता है। ऐसे में हिस्‍से का बंटवारा प्रतिदिन के हिसाब से ही किया जाता है।

लुधियाना रेलवे माल गोदाम।

लुधियाना रेलवे माल गोदाम।

तय समय में सुरक्षित पहुंचाने की होती है गारंटी
रेलवे भले ही आम आदमी का पार्सल समय पर न पहुंचाए, लेकिन दलालों का माल सुरक्षित और तय समय में पहुंचने की गारंटी होती है। नाम न छापने की शर्त पर इस रैकेट में शामिल एक व्‍यक्ति ने बताया कि जो माल दो नंबर का होता है उसकी कीमत ज्‍यादा ली जाती है, लिहाजा उसे सुरक्षित पहुंचाना भी जरूरी होता है। साथ ही इस माल का बिल होता नहीं है या फिर कम कीमत का बिल बना होता है, इसलिए फंसने के डर से रेल अधिकारी भी ऐसे पार्सल ज्‍यादा नहीं रोकते।

बिल्टियों में होती हेरफेर, GST की होती चोरी
रेलवे माल गोदाम में बिल्टियां बनाने में भी पूरी हेराफेरी हो रही है। बताया जा रहा है कि कई बार पार्सल के अंदर माल कुछ होता है और बिल्टी पर GST कुछ और की लगी होती है। अभी हाल ही में पिछले हफ्ते स्टेट GST ने रेड करके कई नग लुधियाना रेलवे स्टेशन पर बिना बिल के पकड़े थे।

दूसरे राज्यों में भेजे जाने वाले 90 फीसदी माल के बिल नहीं होते। जब भी बड़े व्यापारी कारिंदों को माल बुक करवाने के लिए भेजते हैं तो सिर्फ एक बिल ही भेजा जाता है ताकि स्टेशन के बाहर चेकिंग हो भी जाए तो वह बिल दिखा सकें। जब माल स्टेशन के अंदर चला जाता है और रेलवे बुकिंग स्लिप काटकर व्यापारी को देता है तो वह बिल भी वापस मिल जाता है। यह खेल हर रोज हो रहा है।

कांटे पर होती वजन की घपलेबाजी
सूत्रों मुताबिक रेलवे में यदि 100 किलो से अधिक वजन नग का हो जाए तो किराया डबल लगता है। वहीं अगर वजन 150 किलो से अधिक हो तो डिवीजन से इजाजत लेनी पड़ती है। इस कानून का भी रेलवे कर्मचारी पूरा लाभ उठा रहे है।

लुधियाना माल गोदाम में वजन करने वाले इलेक्ट्रानिक तराजू (कांटा) पर अलग से छोटी पेटियां रख दी जाती है जिनका वजन 100 किलो से कम होता है। कंप्यूटर पर वजन उन पेटियों का लग जाता है और असल में जो नग होता है उसका वजन डेढ़ क्विंटल या 2 क्विंटल तक होता है। 100 किलो से नीचे माल की पर्ची बनाकर रेलवे राजस्व को चपत लगा रहे है।

खबरें और भी हैं…



Source link

By bihardelegation21

Chandan kumar patel (BA) , I am not social worker I am Social Media Worker.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik? Ariana Grande Net Income आलिया भट्ट कितना कमाती है Aalia Bhath Earning
दिल्ली की बल्लेबाजी और गेंदबाजी होगी और स्ट्रोंग पॉलीथीन’ जैसी साड़ी पहनकर Alia Bhatt ने बिखेरा जलवा बनने वाली है बाहुबली 3 सुपरहिट’ ही नहीं…’सुपर फिट’ भी है ख़ेसारी लाल किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है खेसारी की पत्नी कौन हैं Khesari Lal Yadav की एक्ट्रेस Neha Malik?
%d bloggers like this: